ISI क्या होता है? ISI का फुल फॉर्म क्या होता है? ISI Full Form In Hindi

आज हम जानेंगे ISI का फुल फॉर्म क्या होता है? (ISI Full Form In Hindi) के बारे में क्योंकि अगर आप कोई इलेक्ट्रॉनिक सामान जैसे कि गैस चूल्हा या फिर गैस का रेगुलेटर खरीदने के लिए मार्केट गए होंगे तो वहां पर आपसे दुकानदार ने अवश्य यह कहा होगा कि मैडम जी अथवा सर जी इस सामान को ले लीजिए क्योंकि यह आई एस आई मार्क वाला है।

ऐसे में आप सामान तो ले लेते हैं परंतु कभी ना कभी आपके मन में यह क्वेश्चन भी अवश्य पैदा हुआ होगा कि भला यह आईएसआई मार्क क्या है और आईएसआई का इतना महत्व क्यों है। आज के इस आर्टिकल में जानेंगे कि ISI का मतलब क्या होता है, ISI Ka Full Form Kya Hota Hai, ISI Meaning In Hindi, What Is ISI Full Form In Hindi की जानकारियां तो, आइए जानते है।

ISI का फुल फॉर्म क्या होता है? – What is ISI Full Form In Hindi?

Isi Full Form
Isi Full Form

ISI : Indian Standards Institution

ISI का Full Form “Indian Standards Institution” होता है। हिंदी में ISI का फुल फॉर्म “भारतीय मानक संस्थान” होता है। जिस प्रकार सोने की शुद्धता के लिए उसे हॉलमार्क का निशान दिया जाता है, उसी प्रकार किसी कंपनी को आईएसआई का सर्टिफिकेट उनके प्रोडक्ट के लिए दिया जाता है।

किसी भी कंपनी के प्रोडक्ट को आईएसआई का निशान ऐसे ही नहीं दिया जाता है बल्कि उसके पहले उसके प्रोडक्ट की टेस्टिंग भी की जाती है और अगर यह पाया जाता है कि उनका प्रोडक्ट वाकई में आईएसआई निशान पाने के लिए एलिजिबल है तो ही उन्हें आईएसआई का मार्क दिया जाता है, जिसके बाद वह कंपनी अपने प्रोडक्ट पर आईएसआई का निशान प्रिंट करती है।

ISI मार्क का क्या मतलब है?

अगर किसी प्रोडक्ट पर आईएसआई का निशान प्रिंट है तो वह इस बात को दर्शाता है कि उस प्रोडक्ट को लॉन्च करने से पहले उसकी टेस्टिंग की गई है और टेस्टिंग में वह प्रोडक्ट वाकई में खरा साबित हुआ है और इस प्रकार से वह प्रोडक्ट इस्तेमाल करने के लिए 100 परसेंट सुरक्षित है, साथ ही उस प्रोडक्ट की क्वालिटी भी अच्छी है।

अगर आप किसी ऐसे प्रोडक्ट का निर्माण करते हैं जिसे आईएसआई निसान की आवश्यकता है तो इसके लिए आपको इंडियन स्टैंडर्ड इंस्टिट्यूट में अपने प्रोडक्ट को आईएसआई निशान दिलाने के लिए अप्लाई करना होता है।

इसके बाद आपके प्रोडक्ट की टेस्टिंग होती है और अगर आप का प्रोडक्ट पास होता है तो आपकी कंपनी को अथवा आपके प्रोडक्ट को आईएसआई का सर्टिफिकेट प्राप्त हो जाता है। इसके बाद आप अपने प्रोडक्ट पर आईएसआई निशान छाप सकते हैं।

ISI मार्क कैसे मिलता है?

आईएसआई का मार्क पाने के लिए सबसे पहले आपको अपने प्रोडक्ट का एक पोर्टफोलियो तैयार करना होता है। उसके बाद आपको अपने प्रोडक्ट के लिए आईएसआई का सर्टिफिकेट प्राप्त करने के लिए इंडियन स्टैंडर्ड इंस्टिट्यूट में अप्लाई करना होता है।

इसके बाद इंडियन स्टैंडर्ड इंस्टिट्यूट की टीम के द्वारा अलग-अलग चरणों से आपके प्रोडक्ट को गुजारा जाता है और इस बात की पूरी तरह से कंफर्मेशन हो जाने के बाद कि आपका प्रोडक्ट लोगों के इस्तेमाल करने के लिए सेफ है और उसकी क्वालिटी अच्छी है, आपके प्रोडक्ट को या फिर आपकी कंपनी को आईएसआई का सर्टिफिकेट या फिर आईएसआई का निशान दिया जाता है।

ISI मार्क कैसे प्रोडक्ट को मिलता है?

नीचे कुछ ऐसे प्रोडक्ट के नाम दिए गए हैं, जिन्हें आईएसआई मार्क मिलता है। इसके अलावा भी अन्य कई प्रोडक्ट हैं, जिन्हें यह दिया जाता है।

  • एलपीजी सिलेंडर
  • इलेक्ट्रिकल इक्विपमेंट
  • पैकिंग वाले फूड
  • ड्रिंकिंग वाटर
  • थर्मामीटर
  • किचन के सामान
  • पैकिंग वाले ग्रॉसरी आइटम इत्यादि।

निष्कर्ष

मुझे उम्मीद है की आपको ISI क्या होता है? और ISI Full Form In Hindi की पूरी जानकारी प्राप्त हो चुकी होगी। अगर अभी भी आपके मन में What Is ISI Full Form In Hindi, ISI Kya Hai और Full Form Of ISI In Hindi को लेकर कोई सवाल हो तो, आप बेझिझक Comment Box में Comment कर पूछ सकते हैं।

अगर आपको ISI (Indian Standards Institution) की जानकारी अच्छी लगी हो तो आप अपने परिवार और दोस्तों के शेयर कर सकते है ताके ISI Kya Hai और ISI Full Form In Hindi के बारे में सबको जानकारी प्राप्त हो सके।

More Full Form In Hindi

Leave a Comment